होम-ऑटो-पर्सनल लोन की EMI कैसे हो सकती है सस्ती, यहां जानिए

होम लोन, ऑटो लोन और पर्सनल लोन से जुड़े एक नियम में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने एक अहम बदलाव किया है. इस बदलाव के बाद 1 अप्रैल 2019 से इन चीजों के लिए बैंक से लोन पर लगने वाले ब्याज दर का नियम भी बदल जाएगा.

मौजूदा समय में फिलहाल बैंक खुद ही तय करते हैं कि ब्याज दर कब बढ़ानी या घटानी है. लेकिन आरबीआई की ओर से रेपो रेट घटाने के बाद 1 अप्रैल से बैंकों को भी अपने ग्राहकों के लिए लोन पर लगने वाली ब्याज दर घटानी होगी. इससे ब्याज दरों में ज्यादा पारदर्शिता आएगी और ग्राहकों की ईएमआई कम होगी. यही नियम छोटे कारोबारियों को दिए जाने वाले कर्ज पर भी लागू होगा.

आरबीआई ने गुरुवार को वित्त वर्ष 2018-19 का छठा द्विमासिक पॉलिसी स्टेटमेंट जारी किया है. यह बयान मंगलवार से गुरुवार तक चली मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक के बाद जारी किया गया है.

इस स्टेटमेंट में आरबीआई ने रेपो रेट में 25 बेसिस पॉइंट की कटौती की है. ऐसे में अब रेपो रेट 6.50 से घटकर 6.25 फीसदी हो गया है. इस कटौती से रिवर्स रेपो रेट 6 फीसदी पर आ गया है. इसका असर होम लोन, ऑटो लोन और पर्सनल लोन पर पड़ सकता है. बैंक इन लोन की ब्याज दरों को कम कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *