रुलाएंगे प्याज के दाम अभी भी, हाथ खड़े कर दिए सरकार ने भी

प्याज के बढ़ते दाम पर सरकार ने हाथ खड़े कर दिए हैं. केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री राम विलास पासवान ने कहा कि प्याज के बढ़ते दाम पर सरकार का कोई वश नहीं है. प्याज के दाम कब कम होंगे के सवाल पर “पासवान ने कहा कि हमारे हाथ में नहीं है. मंत्रालय के सचिव के मुताबिक 12 दिसंबर तक विदेश से प्याज की पहली खेप आएगी. बताया जा रहा है कि 1500 मीट्रिक टन प्याज आएगा पहले खेप में आने वाला है. इस तरह से कुल 4 खेप भारत आएगा. 6500 मीट्रिक टन प्याज़ मिस्र से आयात हो रहा है. 56000 मीट्रिक टन प्याज सरकार के स्टॉक में था, जिसमें से 50 % प्याज सड़ गए.

प्याज़ के सड़ने के पीछे मंत्रालय का तर्क है कि राज्यों ने समय से प्याज नही खरीदा इसीलिए सड़ गए प्याज.

बयान में कहा गया है कि प्याज की यह खेप जल्द ही मुंबई के नावा शेवा बंदरगाह पर आ जाएगी जहां से राज्य सरकारें अपनी मांग के अनुरूप प्याज खरीद सकती हैं.मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार, छह राज्यों की ओर से प्याज की मांग अब तक आ चुकी है, जिनमें आंध्रप्रदेश, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, केरल और सिक्किम शामिल हैं.

मंत्रालय ने बयान में कहा कि जरूरत पड़ने पर राज्यों को नैफेड परिवहन की सुविधा मुहैया करवाएगी. आयातित प्याज की सप्लाई दिसंबर के आरंभ से शुरू हो जाएगी. मंत्रालय ने बताया कि दिल्ली में प्रदेश सरकार की ओर से अब तक कोई मांग नहीं की गई है. उधर, नैफेड ने बताया है कि वह अपने आउटलेट के साथ-साथ मदर डेयरी, केंद्रीय भंडार और एनसीसीएफ के माध्यम से प्याज मुहैया करवाएगी.

मानसून सीजन के आखिर में हुई भारी बारिश के कारण प्याज की फसल को नुकसान होने से देश में प्याज के दाम में भारी इजाफा होने के बाद सरकार ने प्याज का आयात करने का फैसला लिया है.केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री राम विलास पासवान ने इसी महीने देश में प्याज की उपलब्धता बढ़ाकर इसकी कीमतों को काबू में रखने के मकसद से एक लाख टन प्याज का आयात करने की घोषणा की थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *